Rotary International District 3131

Rotary Skin Donation Essay Competition by Pune Cantonment

16 Dec, 2020

Beneficiaries : 0

Cost :

President : Surender Gupta

Rotarian Team : NA

Non Rotary Partner : NA

Description :
Rotary Club ने शुरू की Skin Donation की नई मुहिम, लाखों जिंदगियों में लौटेंगी ख़ुशियाँ 92 SHARES 578 VIEWS Share on Facebook Share on Twitter त्वचा दान (Skin-Donation) के बारे में सामाजिक जागरुकता (Social Awareness ) फैलाने के लिये रोटरी क्लब (Rotary Club) , दिल्ली शाहदरा, कॉटन सिटी रायचूर, नेशनल बर्न्स सेंटर (National Burns Centre) एवं देश के अन्य 200 से भी ज्यादा रोटरी क्लब और अन्य संस्थाएं आगे आई है. त्वचा दान जागरूकता मुहिम के प्रमुख श्री राजेश मोदी ने बताया कि यह एक अखिल भारतीय प्रतियोगिता थी जिसमें 3000 से अधिक प्रविष्टियाँ प्राप्त हुई थी. वेबिनार की शुरुआत में ही 500 श्रोता जुड़ चुके थे जो कि इस मुहिम के कामयाब होने का परिचायक है, इसके अलावा बहुत से लोगो ने फेसबुक पर जुड़कर भी कार्यक्रम का आनंद उठाया. सर्वप्रथम रोटेरियन गिरीश मित्तल ने कार्यक्रम की शुरुआत की. रोटरी क्लब के अध्यक्ष संजय तारी और विकास श्रीवास्तव ने जोशीले स्वागत भाषण से कार्यक्रम के प्रभावपूर्ण उद्देश्य पर रोशनी डाली. इस मुहिम के प्रमुख राजेश मोदी ने कहा कि जिसने भी निबंध प्रतियोगिता में भाग लिया और सकारात्मक सोच का स्वर्णिम अवसर प्राप्त कर समाज को जागरूक करने का प्रयास किया, वे सभी विजेता हैं क्योंकि सही मायने में हमारा उद्देश्य सभी में त्वचादान के प्रति जागरूकता फैलाने का ही तो है. उन्होंने कहा कि हमारा एकमात्र उद्देश्य जन जन को त्वचा दान के प्रति जागृत करना है.” रोटेरियन रवि सहगल ने भी निबंध प्रतियोगिता व उसकी अभूतपूर्व सफलता पर अपने तर्कपूर्ण विचार व्यक्त किए. मुख्य अतिथि रोटरी इंटरनेशनल के पूर्वनिदेशक और ट्रस्टी श्री अशोक महाजन ने प्रतियोगिता की अपार सफलता के लिए सबको बधाई देते हुए उनके प्रिय कवि मैथिली शरण गुप्तजी की पंक्तियों “हम कौन थे क्या होगए हैं और क्या होंगे अभी, आओ मिलकर विचारे आज ये समस्याएँ सभी” के संग अपने प्रेरक विचारों से सबमें जोश भर दिया और प्रथम वर्ग के विजेताओं के नाम घोषित किए. डा० सुनील केसवानी ने निबंध प्रतियोगिता में प्राप्त 3000 प्रविष्टियों के जाँच कार्य और विजेताओं के चयन को चुनौतीपूर्ण बताया और सभी प्रतिभागियों के प्रभावशाली निबंधों की सराहना करते हुए कहा कि नतीजें घोषित करने के लिए चयनकर्ताओं को कड़ी मेहनत करनी पड़ी क्योंकि सभी प्रविष्टियाँ एक से बढ़कर एक थीं. रोटरी क्लब वापी के अध्यक्ष वीरेंद्र पटेल, रोटरी क्लब पुणे के अध्यक्ष सुरेंद्र गुप्ता, रोटरी क्लब ऊटी की अध्यक्षा प्रेमा, साहित्यिकी की अध्यक्षा कुसुम जी ने भी अपने अपने विचार व्यक्त किये. कई विजेताओं ने अपने अनुभव साझा किए और कहा कि त्वचादान के बारे में विस्तृत जानकारी इस प्रतियोगिता के माध्यम से ही उन्हें मिली. सभी ने त्वचादान की इस सामाजिक मुहिम से जुड़ने की आंतरिक इच्छा भी प्रकट की जो कि इस प्रतियोगिता के उद्देश्य की सफलता को दर्शाता है. रोटेरियन सुश्री कला श्रीधर ने सर्वाधिक प्रविष्टियाँ लाने वाले विजेता क्लब और संस्थाओं के नाम घोषित किए. डिस्ट्रिक्ट गवर्नर (डिस्ट्रिक्ट 3160) चिनप्पा रेड्डी ने भी अपने अनुभव साझा करते हुए कहा कि वे इस कार्यक्रम की अभूतपूर्व सफलता से गर्वित हैं. रोटेरियन नवनीत श्रीवास्तव ने बताया कि इस प्रतियोगिता को 3 आयु वर्ग में बांटा गया था. प्रथम आयु वर्ग (12 से 16 वर्ष) में प्रथम पुरस्कार आती स्कन्था रूपन, द्वितीय पुरस्कार महिमा दूसुंगे और तृतीय पुरस्कार त्विशा देसाई को दिया गया. इसके अतिरिक्त आर्य सावंत, बुलुसु श्रीवल्ली, चाहना विवेक कुमार, जान्हवी खेतान, मेधांश धार, सान्वी कश्यप, ज़ारा मेमन, अक्षता पिल्लई, अंजलि एवं रोहित कार्वेकर को सांत्वना पुरस्कार प्रदान किया गया. आयु वर्ग 2 (16 वर्ष से 30 वर्ष) में आँचल राठी, देबोलीना सेन एवं मौमिता गुप्ता को क्रमशः प्रथम, द्वितीय एवं तृतीय पुरस्कार दिए गए. आमिना मरयम, अबीर एहमद, खूबी अग्रवाल, रिया मैथ्यू, सखी रुघाणी, सान्या त्यागी, शेरीन सन्नी, स्वरलि पंडारे, अमृता बेहुरा, कंचन राजपूत एवं पार्थ किरण को सांत्वना पुरस्कार दिअ गए. आयु वर्ग 3 (30 वर्ष से अधिक) में दिलीप हज़ारिका, जयसिंघ पाटिल एवं बबीता माँधणा को क्रमशः प्रथम, द्वितीय एवं तृतीय पुरस्कार दिए गए. इसके अतिरिक्त सीमा साने, अव्वरु वेंकटेस्वर्लु, देवीश्री विश्वेश्वरन, नीना मिरांडा, श्रुति अग्रवाल, अरुणिमा ठाकुर, गीता दुबे, कामिनी सिंह, कुसुम जैन एवं मनीला गोयल को सांत्वना पुरस्कार प्रदान किए गए. इस प्रतियोगिता के माध्यम से सभी आयु वर्ग के लोगों में न केवल जागरूकता का संचार हुआ वरन उनकी रुचि भी त्वचादान जैसे महत् कार्य के प्रति बढ़ी. रोटेरियन प्रफुल्लजी शर्मा और गिरीश मित्तल ने कार्यक्रम का कुशल संचालन करते हुए सभी को आद्योपांत त्वचादान की जागरुकता के विषय से जोड़े रखा. रोटेरियन प्रकाश निर्मल ने बताया कि यह तो मुहिम की शुरुआत भर है, आने वाले समय में यह पूरे देश में और भी फैलेगा. उन्होंने बताया कि जनवरी में हम एक पोस्टर प्रतियोगिता का आयोजन करने जा रहे हैं जिसमे भी 1 लाख रुपये तक के नगद इनाम होंगे. भविष्य में भी इसी प्रकार कि प्रतियोगिताएँ आयोजित करते रहेंगे ताकि अधिक से अधिक लोग इस मुहिम से जुड़े. उन्होंने बताया कि Team ROSDAC का एक मात्र उद्देश्य है उन 1,40000 लोगो की जान बचाना जिनकी जलने से मौत हो जाती है.